आदिवासी तैराकी प्रतियोगिता का हुआ भव्य आयोजन, आदिवासी प्रतिभागियों ने मनवाया अपनी प्रतिभा का लोहा



काल चिंतन कार्यालय

वैढ़न,सिंगरौली।  थाना शक्तिनगर क्षेत्र के मिसिरा सरोवर में आदिवासी तैराकी प्रतियोगिता कार्यक्रम का आयोजन सोन आदिवासी शिल्पकला ग्रामोद्योग समिति  अनपरा के द्वारा आयोजित किया गया ।  कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के सी जैन भाजपा नेता के द्वारा डीहबाबा का पूजा अर्चना कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया । कार्यक्रम में कई प्रतिभागियों ने भाग लिया जिसमें प्रथम विजेता विकास यादव,द्वितीय विजेता सूरज कोल,तृतीय विजेता आलोक यादव ने विजेता बनने का गौरव प्राप्त किया । मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित के सी जैन ने कहा उर्जान्चल वासियों को चाहिए तैराकी के प्रति जागरूक बने ,जागरूक बनने से प्राकृतिक बाढ़ नदी में डूबने,नाव पलटने जैसी आपदाओं से खुद की सुरक्षा के साथ दूसरों की भी मदद कर सकते है ।" सोन आदिवासी शिल्पकला ग्रामोद्योग समिति "  संस्था को यदि स्थानीय परियोजनाओं के सीएसआर योजना से खिलाड़ियों की मदद करें तो उर्जान्चल के खिलाड़ी सोनभद्र ही नही उत्तर प्रदेश व देश स्तर पर राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी बन सकते है स्थानीय खिलाड़ियों में एक अच्छा तैराक बनने की कला है जो नाम रोशन कर सकते है ।  विशिष्ठ अतिथि के रूप में उपस्थित आर डी सिंह ने कहा रिहन्द जलाशय के किनारे निवास करने वाले साथी नागरिकों से अपील है कि वह स्वयं की सुरक्षा के लिए आत्मनिर्भर बने जलाशय के किनारे रहने वाले हर नागरिकों का दायित्व बनता है कि वह तैराकी के हुनर को सीखे । संस्था  सोन आदिवासी शिल्पकला ग्रामोद्योग समिति" के द्वारा तैराकी खेल के प्रति जागरूक करने का प्रयास बेहद सराहनीय है स्थानीय कोयला परियोजनाए व बिजली पावर प्लांट है सभी संस्थानों को चाहिए कि आदिवासियों के खेल के प्रति जागरूक हो सहयोग जैसी स्थिति नही दिखती है एनटीपीसी , एनसीएल अन्य संस्थानों को  सहयोग करना चाहिए मगर स्थानीय परियोजना के जिम्मेदार अधिकारियों की अनुपस्थिति से ऐसा लगता है वह आदिवासी ग्रामीणों के प्रति सजग नही है जो यह खेल तैराकी प्रतियोगिता का आयोजन हो रहा है उत्तर प्रदेश में यह पहली बार देखने को मिल रहा है । कार्यक्रम की अध्यक्षता समिति अध्यक्ष जगदीश साहनी ने अपने सम्बोधन में कहा कि स्थानीय स्तर पर बड़ी- बड़ी संस्थान होने के बाद भी आदिवासी ग्रामीणों के प्राचीन खेल में सकारात्मक सहयोग न मिलने से स्थानीय स्तर के खिलाड़ी सोनभद्र ही नही  बल्कि समूचे उत्तर प्रदेश व देश में अपने कला के हुनर से दिल जीत लेने जैसा साहस है । कार्यक्रम में प्रमुख रूप से उपस्थित भोलानाथ  निषाद, राकेश कुमार निषाद, श्यामलाल, संजय द्विवेदी ,आर,पी,सिंह, संजय सिंह पन्ना, अनिल कुमार, संचालन प्रबीण पटेल ने किया ।  कार्यक्रम में स्थानीय ग्रामीण काफी संख्या में उपस्थित रहें सुरक्षा के लिए स्थानीय पुलिस मौके पर रही मौजूद ।