वैक्सीनेशन के लिए तैयार नहीं हुये ग्रामीण तो वैक्सीनेशन टीम ने काटी फसल


डिंडौरी। वैक्सीनेशन के लिए टीम क्या-क्या नहीं कर रही है। आपने इन्हें नाव से नदी पार कर गांव जाते, पहाड़ी चढ़ते, निवेदन करते तो देखा और सुना होगा, लेकिन मजदूरी करते शायद पहली बार देख रहे होंगे। डिंडौरी में ऐसा ही एक चौंकाने वाला मामला सामने आया। जिले के बजाग क्षेत्र के अंगई गांव में वैक्सीनेशन करने गई टीम को खेत में मजदूरी करना पड़ गया। टीम ने पहले ग्रामीणों के साथ धान कटाई की। इसके बाद वैक्सीन लगाकर वहां से रवाना हुई।दरअसल, अंगई गांव में धान की कटाई करने का हवाला देकर ग्रामीण वैक्सीन का सेकेंड डोज लगवाने से कतरा रहे थे। वैक्सीनेशन जागरूकता दल के काफी समझाने के बाद भी जब ग्रामीण वैक्सीन लगवाने को तैयार नहीं हुए। ऐसे में टीम खेत पर ही पहुंच गई। यहां पर जब वैक्सीन लगवाने को कहा तो उनको वही जवाब था, वैक्सीन लगवाएंगे तो धान की कटाई कैसे कर पाएंगे।

इस पर आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ता भी ग्रामीणों के साथ धान काटने हंसिया लेकर खेत में उतर गए। टीम को खेत पर उनके साथ फसल काटता देख ग्रामीणों का दिल पसीजा और वे वैक्सीन लगवाने के लिए राजी हो गए। वैक्सीनेशन टीम ने खेत में ही ग्रामीणों को वैक्सीन का सेकेंड डोज लगाया। आंगनबाड़ी व आशा कार्यकर्ताओं के इस अनोखे अंदाज की हर कोई तारीफ कर रहा है।स्वास्थ्य विभाग डीपीएम विक्रम सिंह का कहना है कि जिले में सभी को टीका लगना है। सेकेंड डोज लगवाने के लिए जोर-शोर से जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। टीम घर-घर जाकर वैक्सीन लगा रही है। गांव के कुछ किसान फसल कटाई कर रहे थे। इस पर टीम ने उसके साथ धान कटाई कर टीकाकरण के कार्य को पूरा किया।