नक्सलियों तक कैसे पहुंचे बीएसएफ के हथियार?


बिहार, महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान और मध्यप्रदेश में झारखंड एटीएस के छापे, हेड कॉन्स्टेबल समेत 5 अरेस्ट

रांची। देश की सीमाओं की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार बीएसएफ में हथियारों के तस्करों ने सेंध लगा दी है। झारखंड पुलिस के एंटी टेररिज्म स्क्वॉड  ने बीएसएफ के जवानों की मदद से नक्सलियों और गैंगस्टरों को हथियारों की सप्लाई करने के इस खेल का भंडाफोड़ किया है। झारखंड एटीएस ने पांच राज्यों बिहार, महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान और मध्य प्रदेश में अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी कर 5 तस्कर अरेस्ट किए हैं। इनमें पंजाब के फिरोजपुर की बीएसएफ-116 बटालियन का हेड कॉन्स्टेबल कार्तिक बेहरा भी शामिल है। इसके अलावा बिहार के सारण से बीएसएफ-114 बटालियन से स्वैच्छिक सेवानिवृति लेने वाला अरुण कुमार सिंह, एमपी से कुमार गुरलाल ओचवारे, शिवलाल धवन सिंह चौहान, हिरला गुमान सिंह ओचवारे शामिल हैं। अरुण ही इस गिरोह का मास्टरमाइंड है। झारखंड एटीएस के एसपी प्रशांत आनंद और आईजी अभियान एवी होमकर ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मामले की जानकारी दी। गिरफ्तार लोगों के पास से 9 हजार राउंड से ज्यादा कारतूस, 14 हाई टेक पिस्टल, 21 मैगजीन सहित कई चीजें बरामद की गई हैं। इस पूरे अभियान में अब तक कुल 9 लोगों को अरेस्ट किया जा चुका है। इनमें बीएसएफ का एक जवान और एक रिटायर्ड जवान भी शामिल है।