बीजेपी ने मध्य प्रदेश मेें शुरू की 2023 इलेक्शन की तैयारी, विधायकों को किया जाएगा आगाह, अपनी स्थिति सुधारें


भोपाल. भाजपा ने मिशन-2023 की तैयारी शुरू कर दी है. इसकी पहली औपचारिक बैठक 24-25 नवंबर को हो रही है. बैठक में विधायकों से सरकारी योजनाओं की जमीनी हकीकत तो पूछी ही जाएगी, उन्हें इस बात के लिए आगाह भी किया जाएगा कि विधानसभा चुनाव में अब दो साल का समय भी नहीं बचा है, तैयारी में जुट जाएं. अपनी स्थिति में सुधार कर लें, बाद में टिकट नहीं मिले तो पार्टी को दोष मत दें. बैठक में पार्टी का राष्ट्रीय नेतृत्व भी मौजूद रहेगा. माना जा रहा है कि इस बैठक में पार्टी विधायकों को अपना प्रदर्शन सुधारने की अंतिम चेतावनी दी जा सकती है. बता दें कि प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2023 की तैयारी के लिए भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व भी सक्रिय हो गया है.भाजपा के राष्टप्तीय सह संगठन मंत्री शिव प्रकाश और प्रदेश प्रभारी पी मुरलीधर राव 24 और 25 नवंबर को भाजपा विधायकों से बातचीत करेंगे. कहा जा रहा है कि इस बैठक ने विधायकों के बीच खलबली मचा दी है. पार्टी ने राजगढ़ में आयोजित प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में साफ संदेश दिया था कि विधायक और सांसद भी जनता के बीच जाएं. गांव में रात्रि विश्राम करें. जनता की समस्याओं को जानें और समय पर उनका निराकरण कराएं. इसके बाद भी विधायकों के रवैये में खासा बदलाव नहीं आया. हालांकि, पार्टी नेताओं का मानना है कि विधायकों की बैठक को आगे भी बढ़ाया जा सकता है. इस पर बातचीत चल रही है.

संवाद की सतत प्रक्रिया: भाजपा के प्रदेश मंत्री रजनीश अग्रवाल ने कहा कि हर श्रेणी के कार्यकर्ताओं से संवाद की सतत प्रक्रिया के तहत विधायकों से पार्टी का प्रदेश नेतृत्व संवाद कर रहे हैं. निश्चित ही संगठन की गतिविधियों के साथ ही केंद्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन पर विमर्श होगा. कांग्रेस काल और कोरोना काल के दुष्चक्र के बाद अब फिर तेजी से कार्यों को गति देना है. समय और परिस्थिति व तकनीक के कारण कई परिवर्तन भी आए हैं, इनका उपयोग पार्टी के उद्देश्य को पूरा करने में होगा.