फाइजर का टीका चार महीने बाद भी बच्चों में 100 प्रतिशत प्रभावी


एजेंसी ,वाशिंगटन। फाइजर/बायोएनटेक ने सोमवार को दावा किया कि उनकी कोविड-19 वैक्सीन दूसरी खुराक के चार महीने बाद भी 12 से 15 साल के बच्चों में 100 प्रतिशत प्रभावी रहेगी। कंपनियों ने एक बयान में कहा कि नए डेटा में 2,228 परीक्षण प्रतिभागी शामिल थे। इससे संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया भर में उनके टीके के पूर्ण अनुमोदन के लिए आवेदनों का समर्थन करने में मदद मिलेगी।

कंपनियों ने बयान में कहा कि दूसरी खुराक लेने के कम से कम छह महीनों में व्यक्तियों में कोई गंभीर सुरक्षा चिंता नहीं देखी गई। फाइजर का टीका वर्तमान में केवल 16 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों में पूरी तरह से स्वीकृत है।फाइजर सीईओ अल्बर्ट बोरला ने एक बयान में कहा कि वैश्विक स्वास्थ्य समुदाय दुनिया भर में टीकाकरण वाले लोगों की संख्या बढ़ाने के लिए काम करता है। इसलिए ये अतिरिक्त डेटा बच्चों में टीके से सुरक्षा और प्रभावशीलता में और अधिक विश्वास प्रदान करने का काम करेंगे।बोरला ने कहा कि हम इन आंकड़ों को एफडीए और अन्य नियामकों के साथ साझा करने के लिए तैयार हैं। अमेरिका में टीके को मई में किशोरों के लिए आपातकालीन मंजूरी के लिए स्वीकृत किया गया था। कंपनियों की योजना जल्द ही पूर्ण स्वीकृति लेने की है। टीका वर्तमान में केवल 16 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों में पूरी तरह से स्वीकृत है।2,228 प्रतिभागियों में से बिना किसी पूर्व संक्रमण के 30 कोविड-19 मामले थे। यह 100 प्रतिशत की वैक्सीन प्रभावकारिता से मेल खाती है। इस आयु वर्ग के बीच मुख्य सुरक्षा चिंता पुरुषों में वैक्सीन से जुड़ी मायोकार्डिटिस (दिल की सूजन) बीमारी है। लेकिन, ऐसे मामले बहुत कम होते हैं और टीकाकरण के लाभ अभी भी जोखिमों से कहीं अधिक हैं।